होम विविध जाने कैसा रहा राजकुमार का इंस्पेक्टर से सुपरस्टार तक का सफर

जाने कैसा रहा राजकुमार का इंस्पेक्टर से सुपरस्टार तक का सफर

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद राज शाहब मुंबई के माहिम थाने में सब इंस्पेक्टर (थानेदार) के रूप में काम करने लगे. लेकिन उन्हें कहाँ पता था उनकी किस्मत पटलने वाली है उनकी किस्मत में तो कुछ और ही लिखा था.

लोकप्रिय खबरें

Sharmila Tagore ने रखी थी Marriage के लिए कुछ असामान्य Condition

बॉलीवुड इंडस्ट्री में कई स्पेशल जोड़ियां हैं और रही हैं जिनकी लोग मिसाल देते नहीं थकते हैं।...

Bhojpuri Songs: आम्रपाली दुबे और खेसारी का ये हॉट सीन देख उड़ जाएंगे आपके होश, वीडियो देख आप बन जाएंगे इनके फैन

Amrapali and Khesari Hot Bhojpuri Songs: भोजपुरी इंडस्ट्री के मशहूर कलाकार खेसारी लाल यादव (Khesari lal Yadav)...
पूजा रजक
मास कम्युनिकेशन की शिक्षा लेने के बाद पत्रकारिता में अक्सर ही हिंदी लेखन में रुचि रही है और साथ ही कुछ नया ,अनोखा लिखने की चाहत.पिछले 8 सालों से यह सिलसिला अब तक जारी है.

जरूर पढ़ें

रणबीर कपूर की हैरान करने वाली ड्रग्स की लत

बॉलीवुड स्टार संजय दत्त की जिंदगी पर बनी फिल्म ‘संजू’ में रणबीर कपूर की एक्टिंग लोगों को...

जन्मदिन के मौके पर जानिए एक्ट्रेस अनारा गुप्ता के जीवन की कुछ खास बातें

भोजपुरी फिल्मों में अपने अभिनय और बेहतरीन डांसिंग से लोगो के दिलो में एक खास पहचान...

विराट कोहली और अनुष्का शर्मा के घर जल्द गूंजेगी बच्चे की किलकारी

क्रिकेटर हार्दिक पांड्या कुछ ही दिनों पहले पिता बने है | हार्दिक के बाद सभी की...

आज भी जब कोई कहता है ऐ जानी ये शब्द सुनते ही सिर्फ एक ही एक्टर का नाम जेहन में आता है वो नाम है राज कुमार का. राजकुमार को उनकी एक्टिंग के अलावा अपने मुंहफट अंदाज़ और रॉयल ऐटिटूड के लिए जाना जाता था. लेकिन बोहोत ही काम लोगों को पता होगा की राज कुमार फिल्मों में आने से पहले थानेदार थे. आपको बता दे राज कुमार का जन्म पाकिस्तान के बलूचिस्तान  में 8 अक्टूबर 1926 को हुआ था . उनका असली नाम कुलभूषण पंडित था. उन्हें इस बात का एहसास हो गया था की वहां रुककर वह कुछ ख़ास हासिल नहीं कर पाएंगे. इसी के चलते  वह बंटवारे  से पहले ही 1940 में बलूचिस्तान से मुंबई आए.

अपनी  पढ़ाई पूरी करने के बाद राज शाहब मुंबई के माहिम थाने में सब इंस्पेक्टर (थानेदार) के रूप में काम करने लगे. लेकिन उन्हें कहाँ पता था उनकी किस्मत पटलने वाली है उनकी किस्मत में तो कुछ और ही लिखा था. दरहसल  राजकुमार मुंबई के जिस थाने में पोस्टेड थे वहां अक्सर फिल्म इंडस्ट्री के लोगों का आना जाना था. ऐसे में एक बार फिल्म निर्माता बलदेव दुबे कुछ किसी काम के सिलसिले में पुलिस स्टेशन आए और राजकुमार के बातचित  और रहन सहन के अलग अंदाज से बेहद  प्रभावित हो गए.

उन्होंने बिना किसी देर के राजकुमार को अपनी फिल्म में काम करने का ऑफर दिया.  राजकुमार ने भी बिना किसी विलम्भ के इस ऑफर को तुरंत मान लिया और नौकरी से इस्तीफा देकर फिल्म करनी शुरू कर दी. फिर इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. हिंदी सिनेमा में राजकुमार जैसा अभिनेता न कोई था और न कोई होगा.

नई ख़बरें

सम्बंधित ख़बरें

लोकप्रिय ख़बरें

और ख़बरें